आज इस पोस्ट के माध्यम से आपको Hard disk को लेकर जो भी प्रॉब्लम है या फिर कोई कन्फ्यूजन बना हुआ है दूर होने वाला है। कन्योकी आज आप Hard disk से संबंधी लगभग सभी जानकारी प्राप्त करने वाले हैं। 

                      
Hard disk kya hai
Hard disk kya hai

इसमे मैंने
Hard disk क्या है और यह कितने प्रकार की होती है, यह कैसे काम करती है सब कुछ विस्तार से बताया है। 

Also Read-Computer virus kya hai isake aane se hamare system pr kya prabhav pdta hai



Hard disk एक प्रकार की Storage device है। जिस प्रकार आप के मोबाइल में मेमोरी होती है। जिसे आप लोग internal memory या external memory के नाम से जानते हैं। जिसमे आपका सारा डेटा कलेक्ट होता है ठीक उसी प्रकार कम्प्यूटर में भी मेमोरी होती है। 



वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दे कम्प्यूटर में मेमोरी को Primary और secondary के नाम से जाना जाता है primary में RAM और ROM आती है। और secondary में Hard disk, Floppy disk, Magnetic Tape etc. आती हैं। इनमे डेटा को स्थायी रूप से स्टोर किया जाता है। 


Hard disk क्या है?


Hard disk एक Storage device है। जो हमारे डेटा को कलेक्ट करके रखती है। इसे secondary storage device के नाम से भी जाना जाता है। इसमे हम Software, Documents, Files ,Operating Systemआदि को स्टोर करके रखते हैं। इसे हम internal और external दोनों तरह से Use कर सकते हैं। इसमे स्टोर किया गया डेटा कभी नष्ट नहीं होता, जब तक कि आप उसे डिलीट नहीं कर देते। अगर आप किसी जरूरी डेटा को डिलीट भी कर देते हैं तो आप उसे बैक अप या कई ऐसे software आ गये हैं। जिनकी मदत से आप उसे फिर से प्राप्त कर लेते हैं।


⇐Hard disk Vs Floppy disk⇒

Floppy की भाँति ही Hard disk का प्रयोग कम्प्यूटर में इनपुट डिवाइस-की के साथ-साथ डाटा संग्रह के लिए किया जाता है। परंतु Floppy की तुलना में, Hard disk अधिक मात्रा में डाटा कलेक्ट कर सकती है। यह secondary storage के नाम से भी जानी जाती है। एक Hard disk मे एक से अधिक disk होती है जो एक छड़ पर एक निश्चित दूरी पर स्थित होती है। जब यह छड़ तीव्र गति से घुमती है। तो छड़ के साथ साथ disk भी घूमना प्रारंभ कर देती है। 

पर्सनल कम्प्यूटर में 500GB से लेकर 1TB तक की Hard disk का प्रयोग किया जा रहा है। इससे अधिक छमता की Hard disk भी बाजार में उपलब्ध हैं। Hard disk की डाटा स्थानान्तरण की गति भी Floppy से बहुत आधिक तीव्र है। बार-बार नया डाटा लिखने व मिटान से Floppy disk की भाँति यह खराब नहीं होती हैं।Hard disk को कम्प्यूटर मे स्थायी रूप से लगाया जाता है जिससे इसे बार-बार नहीं निकालना पड़ता और यह धूल तथा नमी से बची रहती है।

                        
Hard disk kya hai
Hard disk kya hai


दुनिया की पहली Hard disk➡

International business machine IBM कंपनी ने 1956 में दुनिया की पहली कॉमर्शियल Hard disk बेचने के लिए बनायी।यह Hard disk RAMAC 350 मशीन के साथ लगायी गयी थी। दो बड़े रेफ्रिजेटर जितना इसका साइज था। लेकिन इसकी स्टोरेज कैपेसिटी शिर्फ 5MB की ही थी।



⇚Types of Hard disk⇛



1.IDE/PATA ➟


(Intigreded Drive Electronics/ Paraellel Advance Technology Attachment)इस प्रकार की Hard disk में 40 पिन की डेटा केबल की मदत से Computer Motherboardसे IDE कनेक्टर पिन कनेक्ट होती थी लेकिन प्रेजेंट टाइम में अभी कोई भी कंपनी IDE/PATA टाइप के Hard disk नही बनाती और ना ही इस प्रकार के Mother board है जिन्हें इससे कनेक्ट किया जा सके।


2.SATA➟


इस प्रकार की Hard disk में। सात पिन सीरियल टाइप की डेटा केबल की मदत से Computer Mother board के ऊपर SATA कनेक्टर पिन कनेक्ट होती है।SATA 1,SATA2,SATA3 प्रकार की टेक्नोलॉजी गए कई सालों में विकसित की गयी है। मुख्यतः नये सभी संसोधन में डेटा ट्रान्सफर की गति बढ़ाने पर ज्यादा ध्यान दिया गया है।SATA Hard disk 16GB ,32GB से लेकर 8TB,12TB साइज में उपलब्ध हैं।


SSD(Solid state drive)➟


इसके अंदर कोई भी मैकेनिकल पार्ट नही है इसलिए इसे Solid state drive कहते हैं।SSD के अंदर बहुत सारे Flash memory Modulas, Controller IC,Cache memory chip लगाये होते हैं।Flash memory modulas के अंदर हम डेटा स्टोर कर सकते हैं।SSD के बहुत सारे फायदे है इसकी डेटा Read Wright speed सामान्य हार्डडिस्क से बहुत ज्यादा होती है।इसे इलेक्ट्रिक सप्लाई भी सामान्य Hard disk से बहुत कम लगती है।SSD में कोई भी मैकेनिकल पार्ट न होने के कारण इसकी उम्म्र ज्यादा होती है।इसकी स्पीड बहुत High होती है इसकी स्पीड की तुलना आप RAM की स्पीड से कर सकते हैं।

⇐Parts of Hard Disk⇒



Hard disk के अंदर बहुत सारे इलेक्ट्रॉनिक,मैकेनिकल पार्ट होते हैं। ये बहुत ही सटीकता और कड़ी निगरानी के साथ बनाये जाते हैं।कन्योकी Hard disk एक Computer का सबसे महत्वपूर्ण मेमोरी स्टोरेज डिवाइस है।इसके अंदर बहुत ही महत्वपूर्ण डेटा स्टोर किया जाता है।Hard disk दुनिया का सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला स्टोरेज डिवाइस है।


Hard Disk Platter➟


Hard disk के अंदर प्लैटर,रीड राइट हेड होते हैं। Hard disk के अंदर प्लैटर वजन में हल्के और मजबूती के लिए एल्युमीनियम, काँच या प्लास्टिक या सिरेमिक मैटेरियल से बनवाये जाते हैं। प्लेटर के ऊपर अलग अलग मैग्नेटिक पदार्थ जैसे-Ni, Ph, क्रोमियम, कोबाल्ट क्रोमियम, Titenium Based पॉलीमर का कोटिंग लगाया जाता है।इस मैग्नेटिक गुणधर्म का उपयोग करके डेटा प्लेटर्स के ऊपर लिखा जाता है।

Track➟

Hard disk के प्लेटर के ऊपर गोलाकार लाइन के ऊपर डेटा लिखा जाता है, उसे हम डेटा ट्रक बोलते हैं।

Sector➟

Hard Disk एक प्लेटर के ऊपर की एक ट्रैक में कई छोटे विभाग डेटा लिखने के लिए बनाये जाते हैं।उसमें से एक भाग को हम सेक्टर कहते हैं।

Cluster➟

Hard disk के प्लेटर के ऊपर की एक से ज्यादा सेक्टरों को हम cluster कहते हैं।

Cylinder➟

Hard disk के सभी प्लेटर के ऊपर के एक ही नंबर के सभी Track को Cylinder कहते हैं।

Read wright Head➟

Hard disk के अंदर एक या अनेक प्लेटर और Read wright Head होते हैं हर प्लेटर के ऊपर और नीचे की सतह पर के मैग्नेटिक मैटेरियल कोटिंग का इस्तेमाल करके Read Wright Head डेटा पढता है।और लिखता भी है।डेटा पढ़ने और लिखने की प्रक्रिया आति जल्द होने के लिए एक ही टाइम में डेटा सभी प्लेटर के ऊपर सभी रीड राइट हेड द्वारा किया जाता है।

Conclusion➟

दोस्तों आज आपने Hard disk kya hai इसके Part और इससे संबंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर ली है मुझे उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आयी होगी आपको कैसी लगी हमें कमेंट कर के बता सकते हैं। और साथ ही मैंने Computer से Related अन्य जानकारियों की लिंक आपको दी हैं जिन पर क्लिक कर के आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं।