DBMS kya hai? Database management system क्या है? इसके कितने प्रकार हैं?

अगर आप जानना चाहते हैं कि DBMS kya hai?तो मैं आपको बता दूँ कि DBMS सूचना प्रौधोगिकी का सबसे महत्वपूर्ण Application है। लेकिन DBMS क्या है? इसके प्रकार और इससे संबंधित अन्य जानकारी प्राप्त करने से पहले यह जानना आवश्यक है कि Database क्या है? तो दोस्तों जैसा की हम सभी जानते हैं। कि आज की दुनिया में डाटा और इनफार्मेशन की मांग कितनी ज्यादा हो गयी है। और हम सब इसे कुछ ही समय में Internet द्वारा प्राप्त भी कर लेते हैं। जैसे मान लीजिए आपको पता करना है कि किस राज्य में कोरोना वायरस का संक्रमण ज्यादा है। या फिर इस पोस्ट को ही ले लीजिए जिसमे आप यह जानना चाहते हैं कि DBMS kya hai? ये जानकारी आप Internet द्वारा आसानी से प्राप्त ही कर लेंगे। परन्तु ये सारा डाटा कँहा संग्रहित होता है। तो जवाब है -डाटाबेस। अब आप डेटाबेस के बारे में जान ही गए होंगे। आइये अब देखते हैं कि DBMS kya hai?

                  
dbms kya hai
Database Management System.


DBMS kya hai? (What is DBMS?)

Data को संकलित करके उसका प्रबंधन करना Data पर आधारित प्रबंधन कहलाता है। यह प्रणाली डाटा पर आधारित प्रबंधन प्रणाली यानि की DBMS कहलाती है।


DBMS ka Full form- Database Management System//

सरल शब्दों में कहें तो ऐसे Computer program जो Computer पर आकड़ो को संग्रह करने उनका प्रबंधन(आंकड़े जोड़ना , परिवर्तित करना , आकड़ो में परिवर्तन करना आदि) करने एवं आकड़ो पर आधारित प्रश्न पूछने के काम आते हैं , उन्हें DBMS कहते हैं।
संछेप में कहा जाये तो यह एक ऐसी प्रणाली है जिसमे डाटा को Database के रूप में एक जगह इकट्ठा किया जाता है तथा उसे एक्सेस करके सारी समस्याओं को हल किया जाता है।DBMS System के कुछ उद्देश्य होते हैं-
1.Data को कुशलता से संग्रहित करने की योग्यता प्रयोगकर्ता को प्रदान करना।
2.Data को शीघ्रता एवं सुगमता से एक्सेस करने की सुविधाएं प्रदान करना।
3.Database के Application में परिवर्तन करना।
4.Data से विभिन्न प्रकार की जानकारी प्राप्त करना।
5.Database में संग्रहित Data को आवश्यकतानुसार परिवर्तित करना और डाटा की सुरक्षा को सुनिश्चित करना आदि।


DBMS Software कौन से हैं? 

DBMS व्यवस्था की सभी तकनीकों को एकत्र कर एक Software का रूप प्रदान किया गया है , जिसके द्वारा आप DBMS की सभी सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। इनफार्मेशन मैनेजमेंट की बढ़ती आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए आज मार्किट में अनेक DBMS पैकेज़ उपलब्ध हैं , जो आपको DBMS तकनीक की सुविधा प्रदान करते हैं; जैसे- DBase , FoxPro , MS-Access , ORACLE , INGRES , SYBASE , INFOMIX आदि।


DBMS के मुख्य गुण(Properties of DBMS)

1.अनावश्यक अधिकता(Feature of Redundancy)-

एक ही तरह के Data को अलग-अलग जगह पर स्टोर करना (duplication)Data Redundancy कहलाता है जो Data inconsistency का कारण बनती है। जिससे स्टोरेज एवं मूल्य दोनों ही बढ़ते हैं। परंतु DBMS का यह गुण Data की अनावश्यक उपस्थित संभावनाओं को नियंत्रित करता है।

2.सुरक्षा का गुण(Feature of Security)-

DBMS डाटाबेस में डाटा को सुरक्षा एवं अखण्डता प्रदान करता है। डाटाबेस पर अनेक सुरक्षा नियम लागू किये जाते हैं। जिनके द्वारा डाटा को सुरक्षित किया जा सकता है। डाटाबेस में किसी भी वेल्यू को इन्सर्ट करने से पहले उसे कुछ शर्तों को ध्यान में रखना आवस्यक होता है।

3.'डाटा का साझा उपयोग'का गुण (Feature of Data Sharing)

DBMS के द्वारा आप ऐसी सुविधाएं प्राप्त कर सकते हैं जिससे एक डाटा आइटम को एक ही समय पर अलग अलग स्थान पर बैठे अलग अलग व्यक्तियों द्वारा एक्सेस कर सकते हैं। प्रत्येक व्यक्ति अपनी इच्छानुसार समान डाटा को एक्सेस करके महत्वपूर्ण इनफार्मेशन प्राप्त करता है। DBMS में समान डाटा को जरुरत के हिसाब से भिन्न भिन्न प्रकार से प्रदर्शित किया जा सकता है , यह 'दृष्टिकोण' अथवा 'व्यूज' कहलाता है।

4.डाटा आयात-निर्यात करने का गुण(Data Import-Export Features)-

DBMS सॉफ्टवेयर किसी डाटा को एक डाटाबेस से दूसरे डाटाबेस में सरलता से सुरक्षित आयत-निर्यात करने की सुविधा प्रदान करता है। उपरोक्त वर्णित गुणों के अतिरिक्त DBMS में अनेक ऐसे गुण हैं जो किसी कार्यालय/संस्थान के लिए अति आवश्यक अंग बनाते हैं जैसे बिल बनाने का गुण DBMS सॉफ्टवेयर डाटाबेस के रिकॉर्ड को एक बिल के रूप में प्रिंट कर सकते हैं।

5.स्टैण्डर्ड पॉलिसी और नियम लागू करने का गुण(Standard Enforcing)-

प्रत्येक कंपनी एवं संस्थान के डाटाबेस के लिए कुछ स्टैण्डर्ड लागू किये जाते हैं। DBMS के द्वारा उन नियमो व् स्टैण्डर्ड को लागू किया जा सकता है; जैसे-कंपनी के स्टैण्डर्ड अप्लीकेशन के अंदर डाटाबेस बनाना , स्टैण्डर्ड के अनुसार ही प्रयोगकर्ता को प्रयोग करने का अधिकार निर्धारित करना आदि।

Popular Post-Computer वायरस क्या है और इसके आने से हमारे System पर क्या प्रभाव पड़ता है।


Types of DBMS(Database management system के प्रकार)- 

दोस्तों Database Model ऐसे Setup rule या Standard हैं। जो कि Define करते हैं। कि Database के अंदर जो Data store हो रहा है। उसे हम किस Structure में Store कर रहे हैं। और जब हम उसे निकालेंगे तो वह हमें किस रूप में मिलेगा। इसे ही डाटाबेस मॉडल कहते हैं।Database model चार प्रकार के होते हैं। आइये इनके बारे में जान लेते हैं।

1.Hierachical Model
2.Network Model
3.Relational Model
4.Object Oriented Model 

1.Hierachical Model-

Hierarchical Model में Record को Hierarichy के रूप में व्यवस्थित किया जाता है। उदाहरण के तौर पर देखें तो एक Organization chart के रूप में। इसे 1960 में IBM द्वारा डेवलप किया गया था। यह Model Parrent/Child Model है। इसमें डाटा एक दूसरे से Link  द्वारा जुड़ा रहता है। इसमें Record Tree के रूप में Expand होता है।

2.Network Model-

यह भी बिलकुल Hierarichy model की ही तरह होता है। नेटवर्क मॉडल में एक से ज्यादा Parent Mode हो सकते हैं। इसका मतलब यह है कि इसमें एक से ज्यादा Parent Child के रिलेशन शिप होती है। Network Model में डाटा को ग्राफ के रूप में व्यवस्थित किया जाता है। इस प्रकार के Model में एक Child के एक से अधिक Parent भी हो सकते हैं। इस प्रकार के सम्बन्ध को Many-to-Many relation ship कहा जाता है।

3.Relational Model -
Relational Model के डेटा को 2 डाईमेंसनल Table में Store किया जाता है।Table को रिलेशन भी कहते हैं। और प्रत्येक Table की Row को हम Tupple तथा Column को Attribute कहते हैं।इस Model में डेटा को Relation मतलब Table में Store किया जाता है। तथा प्रत्येक Relation में Row और Column होते हैं। Ex- DB2 , Qracle , SQL server , RDBMS आदि। 

इसमें Powerfull Computer Hardware Storage डिवाइस तथा Software की आवश्यकता होती है। Relational Database डाटा Entrygrity Provide करता है। मतलब कोई भी Users बिना Qwner की Permission के डेटाबेस को access नही कर सकता।

4.Object Oriented Model-

इस प्रकार के डेटाबेस में Data को Object के रूप में Store किया जाता है। यँहा दो या अधिक Object के बीच अलग-अलग प्रकार के Relationship हो सकते हैं। ऐसे डेटाबेस को बनाने के लिए Object Oriented Progaraming language की जरूरत पड़ती है।

Advantage of DBMS(Database management system)-

1.Data security- 
Data security की वजह से Authorized users ही इस पर access कर सकते हैं। Login और Password की मदद से।
2.Support Multiusers views-
इसमे Multiple user एक ही समय पर एक साथ Data को देख सकते हैं।
3.Minimized Data inconsistency-
DBMS Data inconsistency को Minimize करता है। , Data inconsistency का मतलब होता है कि किसी एक व्यक्ति की information (Data) जो अलग अलग फाईलो में Save है।
यदि DBMS Data Reduncy को कम करता है। तो Data inconsistency होने की संभावना भी कम हो जाती है।
4.Data Abstraction-
Data Abstraction का मतलब होता है। Data को Hide करना यानि कि जो Basic user होते हैं। उनसे Data को Hide करना।
इसमें DBMS User को केवल Usefull data Provide कराता है। यह केवल वह Data दिखाता है। जो Users के लिए Useful है।
5.Cantrolling Data Redundancy-
Cantroling Data Redundancy में Redundancy का मतलब होता है फालतू की चीजें यानि की Data में जो फालतू चीजे होती हैं। उनको कंट्रोल करना। DBMS जो Data की एक से ज्यादा Copy होती हैं यह उनको कन्ट्रोल करता है।

Disadvantage of DBMS(Database management system)-

1.Cost of Hardware and Software-
Cost of Hardware and software जैसा  की इसके नाम से ही पता चल रहा है कि इसमें Hardware और Software पर खर्च करना पड़ता है। DBMS को Run कराने के लिए High speed Processor और Large memory की जरूरत पड़ती है।
2.Cost of Data conversion-
यदि हमने Hardware और Software पर खर्च भी कर दिया तो दूसरा Disadvantage यह है कि हमें इसका Conversion करना पड़ेगा।
जो भी File हमारे Computer में है। उनको DBMS में Convert करने के लिए हमें Time भी Consuim करना पड़ेगा।
3.Cost of Staff Tranning-
दोस्तों DBMS एक Complex System होता है। इसे बनाने के लिए एक Trained Staff की जरुरत पड़ती है। जो आपके लिए काफी Coastly भी होगा।
4.Maintening currency-
कोई भी चीज़ हो जब वह आपके पास रहती है। तो आपको उसकी देखभाल करनी पड़ती है। और उसके Maintenence पर भी खर्च करना पड़ता है। same इसमें भी करना पड़ता है। इसमें आपको Data को Update करना पड़ता है। उसको हमेशा available भी रखना पड़ता है। जो आपके लिए Coastly भी होता है।
5.Frequency update/Replacement cycle-
Software company अपने Software में नये features add करने के लिए उसमें हमेशा कुछ न कुछ Update करती रहती हैं। जिससे हमें भी बार-बार Update करना पड़ता है।

DBMS kya hai इसके बारे में आज आपने पर्याप्त जानकारी प्राप्त कर ली है। इस जानकारी के साथ साथ मैंने आपको Post के बीच में Link दिए हैं जिन पर click करके आप इन्हें भी पढ़ सकते हैं। मुझे उम्मीद है दोस्तों आपको मेरी यह Post पसंद आयी होगी आपको कैसी लगी हमें Comment में जरूर बताएं।
Must Read-Keyboard क्या है और इसके कितने प्रकार हैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां