आज के इस युग में शायद ही कोई ऐसा वयक्ति हो जिसने Computer का नाम ना सुना होगा लगभग सभी लोग Computer के नाम से परिचित है। पर उनमें से कुछ ही लोग है जो Computer के विषय में पर्याप्त जानकारी रखते है। आज हम आपको बताएंगे कि Computer क्या है और यह कितने प्रकार का होता है।    

आज के समय में Rocket, Saitelite आदि का सफल प्रछेपड़ Computer की ही देन है।दोस्तों आज के इस Techonology के युग में सूचना संसाधन बहुत तीव्र गति से विकास कर रहा है।और Computer कार्यालयों,उद्योगों, विद्यालयों, घरों तथा चिकित्सालयो तक मे अपना विशेष स्थान बना चुके है।


Full form of computer➔

COMPUTER-Commonly operated machine particularly used in Technical and Educational Research.



Also Read-Windows Operating system क्या है और Windows Operating system के Version कितने हैं।


⇐What is Computer⇒


सबसे पहले यह जानते है कि Computer शब्द की उत्त्पति कैसे हुई।वैसे तो Computer शब्द की उत्त्पति लैटिन भाषा के Computare से हुई है ;जिसका अर्थ है-गणना करना।परन्तु Computer विशेषग्यो के अनुसार ,कंप्यूटर शब्द अंग्रेजी भाषा के 'कंप्यूट'(Compute) शब्द से बना है। जिसका भी अर्थ है गणना करना।आइये अब Computer की diffinition के बारे मे बात कर लेते है।


Computer वह Electronic Machine है।जो निर्देशो के समूह के नियंत्रण मे Data पर क्रिया करके सूचना उत्पन्न करता है। Computer, Data को स्वीकार करके Program क्रियान्वित करता है।

Computer केवल एक बेजान यन्त्र नही है। बल्की यह मानव के ज्ञान का संकलन करके मानव की क्षमता से भी अधिक शुद्धता एवं तीव्र गति से कार्यो को पूरा करता है। Computer ने मानव के बौद्धिक क्षमता को विकसित करके ज्ञान की आनेको नयी शाखाओं का विकास किया है। इन शाखाओं में सुचना प्रद्योगिकी (Information Techonology)एक महत्वपूर्ण शाखा है। इस शाखा के अन्तर्गत वणिज्यिक गतिविधियों मे एक नयी क्रांति आई जिसे(E-Commerce)कहा जाता है। इसके माध्यम से किया गया व्यापार ई-कॉमर्स(Electronic commerce)कहलाता है।

       

⇐Importance of Computer⇒


Computer के महत्व तथा उपयोग से लगभग सभी लोग परिचित हैं।Computer ने सभी महत्वपूर्ण क्षेत्रो में अपनी अदभुत उप्लब्धियों से सारी दुनिया में अपना एक विशेष स्थान बनाया है।
आज के वैज्ञानिक युग में अनेक कार्यो की सफलता Computer की ही देन है।संपूर्ण विश्व का ध्रुविकरण इसी Computer की देन है। अनेक प्रकार के Rocket ,Missile का सफल प्रक्षेपण इसी की देन है। आज युद्ध की समस्त प्रणालीय इसी पर निर्भर हो गई है। अंतरिक्ष यात्रा और उपग्रहों का प्रक्षेपण इसके बिना संभव नहीं हो सकता है।Computer की Networking के द्वारा संपूर्ण विश्व सिमटकर एक छोटा सा द्वीप लगने लगा है। किसी भी देश की शक्ति अब सूचना तकनीक पर ही केंद्रीत हो गई है।
Computer की सहायता से हम एक नगर से दूसरे नगर अथवा एक देश से दूसरे देश मे अपने सन्देश E-Mail की सहायता से कुछ ही क्षणों में प्रेषित करने में सक्षम है। Internet के माध्यम से विश्व के किसी भी कोने से हम किसी भी प्रकार की वस्तुंए खरीद सकने या वस्तुंए बेच सकने मे सक्षम हो गए हैं। Computer मे तीव्र गति से कार्य करने की विलक्षण छमता है। 


⇐What is Computer System⇒


एक अथवा अनेक goals को achive करने के लिए use की गई units का group सिस्टम(System) कहलाता है।
Computer भी एक System है जिसकी निम्नलिखित Units हैं।

1.Computer Hardware ➞

Computer के वे भाग जिन्हें हम आँखों से देख सकते हैं और हांथो से स्पर्श कर सकते हैं, अर्थात यांत्रिक, वैधुत तथा इलेक्ट्रॉनिक भाग Computer Hardware कहलाते हैं।

2.Computer Software➞

निर्देश या का समूह Software कहलाता है। Computer Software वे Program होते हैं , जो किसी कार्य को संपादित करने के लिए Computer Hardware को निर्देश देते हैं ताकि Data को Process किया जा सके और वांछित सूचना प्राप्त की जा सके।

3.User➞

Computer Software का उपयोग करके Computer Hardware को निर्देश देकर अभिलाषित Output प्राप्त करने वाले व्यक्ति को  User कहते है। अर्थात program लिखने वाला अथवा Computer पर कार्य करने वाला व्यक्ति जो Program लिखता है(Programer)अथवा Output प्राप्त करता है, उन्हें (User)की श्रेणी मे रखा जाता है।आईये अब Computer के कुछ गुणों के बारे में जान लेते हैं।


Properties of Computer➞


1.Speed➞

Computer पलक झपकते ही लांखो की गणनाएँ कर सकता है। Computer की तेज गति के आधार पर गति, दिशा, गुरुत्वाकर्षण भार आदि का अनुमान लगाना बहुत सरल है।

2.High storage capacity➞

जिस प्रकार हम अपनी स्मृतियों में घटनाओं और दृश्यों को याद रखते हैं उसी प्रकार Computer भी अपनी Memory में सूचनाओं या आकड़ो को याद रखता है।

3.Accuracy➞

Computer का सबसे महत्वपूर्ण गुण है कि उसके द्वारा किया गया कार्य शुद्ध होता है। Computer में शुद्ध निर्देशो एवं आकड़ो के द्वारा त्रुटिविहीन सूचनाएं प्राप्त होती हैं।

4.Versatile➞

Computer एक बहुउद्देशीय Machine है जिसमे विभिन्न कार्यो को संपादित किया जाता है। इसी कारण से इसका उपयोग अनेक क्षेत्रो में किया जाता है।

                         
Computer kya hai

         ⇐Types of Computer⇒


वैसे तो Computer कई तरह के होते हैं। लेकिन आज हम आपको उन Computer के बारे में बताएंगे जिनका Classification Application , Purpose और Size के आधार पर किया गया है।

Classification of Computer on the basis of Application➡


1.Digital Computer➞


डिजिटल Computer अंको की गणना करते हैं।इनका उपयोग सबसे ज्यादा किया जाता है।डिजिटल Computer डाटा और प्रोग्रामो को 0 तथा 1 में परिवर्तित कर उन्हें इलेक्ट्रॉनिक रूप में ले आता है।डिजिटल Computers Micro computers , Mini computers , Main fraim और Super computers के अंतर्गत आते हैं।

2.Analog computer➞


Analog Computer ऐसी सूचनाओं को हैंडल या प्रोसेस करते हैं, जो भौतिक प्रकति की होती हैं जैसे तापमान , दबाव आदि। Analog computer अंको की गणना नही करते हैं।स्पीडोमीटर , वोल्टमीटर , संडायल , थर्मामीटर इत्यादि Analog उपकरण हैं। इसमे लगातार मिलने वाले संकेतो की माप को प्रदर्शित किया जाता है। राडार एक Analog Computer है।

3.Hybrid computer➞


Analog computer और डिजिटल computer के गुणों का सम्मिलित रूप Hybrid computer है। इनका प्रयोग अधिकांशतः वैज्ञानिकों द्वारा किया जाता है। सैटेलाइट में Hybrid computer कार्य करता है। E. C. G की मशीन भी एक Hybrid computer है।



Clasification of Computer on the basis of purpose➙



उद्देश्य के आधार पर Computer दो प्रकार के होते हैं।

1.General purpose Computer➞


ये वे computer है, जिनमें अनेक प्रकार के कार्य करने की क्षमता होती है लेकिन ये कार्य सामान्य होते हैं। जैसे कि Word procesing , पत्र व दस्तावेज तैयार करना, दस्तावेजों को छापना , डाटाबेस , बनाना आदि।

2.Special purpose computer➞


ये ऐसे Computer है जिनको विशेष कार्य के लिए तैयार किया जाता है। जैसे कि मौसम विज्ञान , इंजीनियरिंग , समुद्र विज्ञानं , उपग्रह संचालन आदि।


Clasification of Computer on the basis of size➙


आकार के आधार पर computer को चार भागों में विभाजित किया जा सकता है।

1.Micro Computer➞


Micro computer आकार में अत्यधिक छोटे होते हैं और Micro procesor के साथ input output और storage device जोड़कर तैयार किये जाते हैं।इनकी मुख्य मेमोरी का आकार 1 मेगाबाइट से लेकर 64 मेगाबाइट या अधिक हो सकता है। Micro Computer की Word length 8 से 32 बिट तक होती है। इनका प्रयोग एक बार में केवल एक ही व्यक्ति कर सकता है।Micro Computer को personal computer भी कहते हैं।

2.Mini computer➞


ये Micro computer की अपेछा आकार में बड़े होते हैं। Mini computer की word length 32 बिट या इससे अधिक होती है। एक Mini computer को एक ही समय में 35 व्यक्ति तक एक साथ प्रयोग कर सकते हैं। इनकी गति 10 से 30 MIPS होती है। Mini Computer की RAM 8mb से 96 Mb तक होती है। इसमें प्रयोग की जाने वाली Hard disk640 Mb से 30 GB तक होती है।Mini computer का प्रयोग payroll बनाने, एकाउंटिंग के कार्य करने तथा वैज्ञानिक प्रयोग के लिए किया जाता है।

3.Main frame Computer➞


ये computer Mini Computer की अपेछा आकार में बहुत बड़े होते हैं।साथ ही इनकी संग्रह क्षमता भी बहुत अधिक होती है। इनकी मुख्य memory का आकार 32 मेगाबाइट से लेकर 1 गीगाबाइट तक होता है। इन computer के लिए एयर कंडीशनिग करना अनिवार्य होता है। ताकि तापमान संतुलित रहे।इनमें अधिक मात्रा के data पर तीव्रता से process या क्रिया करने की क्षमता होती है, इसलिए इनका उपयोग बड़ी कंपनियां , बैंक तथा सरकारी विभाग एक केंद्रीय Computer के रूप में करते हैं। Main frame Computer की गति 30 से 100 MIPS तक होती है। इस पर 100 व्यक्ति एक साथ बैठकर इसका प्रयोग कर सकते हैं।

4.Super Computer➞


Super Computer , Computer की सभी प्रकारों में सबसे बड़े , सबसे अधिक संग्रह क्षमता वाले तथा सबसे अधिक गति वाले होते हैं। इनमें अनेक CPU समान्तर क्रम में कार्य करते हैं। एक Super computer की गति 400 से 10000 MIPS तक होती है। इसकी word length 96 बिट तक होती है। Super computer Non-Von Neuman Concept के आधार पर तैयार किया जाता है।Super Computer का उपयोग बड़ी वैज्ञानिक और शोध प्रयोगशाला में , अन्तरिछ यात्रा , मौसम की भाविष्य वाणी , उच्च गुड़वत्ता के Animation वाले Movie का निर्माण करने में किया जाता है।Super computer सबसे महंगे computer होते हैं। इनका मूल्य अरबो रुपयों तक होता है। भारतीय वैज्ञानिकों ने एक परम-1000 सुपर कम्प्यूटर बनाया है।इसका विकसित रूप PARAM-10000 भी तैयार कर लिया गया है।CRAY-2, CRAY XMP -24 , NEC -5000, SX-3r , HITAC S-300 आदि Super Computer के उदाहरण हैं।