नमस्कार!sstechesa पर आपका हार्दिक स्वागत है। आज हम आपको कीबोर्ड क्या है और इसके कितने प्रकार  हैैं। यह कैसे काम करता है , Important keys कौन सी हैं और Shortcut keys का इस्तेमाल कैसे करें से रिलेटेड फुल और  इम्पोर्टेन्ट इनफार्मेशन आपको देंगे।


          Keyboard क्या है?



कीबोर्ड कम्प्यूटर से जुडी हुई एक इनपुट डिवाइस है। कीबोर्ड एक लंबी तार के द्वारा CPU से जुड़ा रहता है। जिसके द्वारा प्रोग्राम को कम्प्यूटर में एंटर कराया जाता है। यह कीबोर्ड बिल्कुल टाइप राइटर की तरह होता है। इसमें सॉफ्टवेर के प्रयोग के अनुसार अनेक विशिस्ट बटनों का संयोजन करके अनेक प्रकार के आदेश कम्प्यूटर को दिये जाते हैं। इसमें अच्छर, अंक, विशेष चिन्ह, फंक्शन कीज़ और कुछ कन्ट्रोल कीज़ भी होते हैं।.          

                             

Computer के keyboard में टाइप राइटर के सभी keys के अलावा कुछ अतिरिक्त keys भी होते हैं। ये अतिरिक्त keys ; कर्सर कन्ट्रोल, इन्सर्ट डिलीट, स्क्रोल कन्ट्रोल आदि हैं।आजकल पेंटिंग प्रोसेसर वाले computer के साथ जो कीबोर्ड प्रयोग किया जाता है।उसमें105 से ज्यादा keys होती है।न्यूमेरिक कीपैड का प्रयोग कर्सर कन्ट्रोल के लिए भी किया जाता सकता है।न्यूमेरिक कीपैड का यह डबल फंक्शन Num Lock के द्वारा नियंत्रित होता है।

Popular Post-Operating system क्या है , इसके प्रकार और यह कैसे काम करता है।



 Keyboard काम कैसे करता है➙

एक key दबाते ही एक इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल उत्पन्न होता है। जो की एक इलेक्ट्रॉनिक सर्किट जिसे कीबोर्ड एनकोडर कहा जाता है। के द्वारा खोजा जाता है। Keyboard में एक छोटा प्रोसेसर बिल्ट इन का प्रयोग होता है।जब भी आप एक keys दबाते हैं, keyboard प्रोसेसर इसे खोजता है और Motherboard पर स्थित keyboard cantroler को इसके अनुरूप एक बाइनरी नंबर भेजता है जिसे स्कैन कोड कहा जाता है।यह कोड अंततः प्रोसेसर(CPU) को ट्रांसमिट कर दिया जाता है। इसके बाद CPU, Keyboard ड्राइवर नाम के प्रोग्राम का प्रयोग करके इसे प्रोसेस करता है।कीबोर्ड ड्राइवर,कोड़ो को उनके अनुरूप कैरेक्टरों में बदल देता है।

Keyboard का वर्गीकरण➟

Word keys➞

Keyboard में (A-Z) तक की सभी keys word keys कहलाती हैं।इसमे टोटल 26 word होते हैं।

Numeric keys➞

0 से 9 तक के सभी कैरेक्टर आंकिक कीज़ कहलाते हैं।ये key-board में दूसरी पंक्ति में स्थित होते हैं।इन आंकिक कीज़ के साथ कुछ विशेष चिन्ह भी छपे होते हैं।,जो विशेष चिन्ह कहलाते है और इनका प्रयोग शिफ्ट-की के साथ ही किया जा सकता है।

Function keys➞

Key board की प्रथम पंक्ति में स्थित F1 से F12 तक के नाम वाली keys, फंक्शन कीज़ कहलाती हैं। ये Computer में चलने वाले सॉफ्टवेर के लिए विशेष प्रकार के कार्य करती हैं।अलग अलग सॉफ्टवेर के अनुसार इनसे विभिन्न कार्य किये जा सकते हैं। Ex- F1 key अधिकांस प्रोग्राम में हेल्प फाइल डिस्प्ले करती है। जो उस प्रोग्राम को प्रयोग करने के लिए उपलब्ध रहती है।


Also read-Hard Disk क्या है यह कितने प्रकार की होती है। और यह कैसे काम करती है।


Curser Movement Keys➞

न्यूमेरिक की-पैड के बाएं हाथ वाले पैड की कीज़ कर्सर मूवमेंट कीज़ कहलाती हैं।इन ऐरो keys का प्रयोग कर्सर को बाएं, दाएं, ऊपर और नीचे चलाने में किया जाता है।इसके अतिरिक्त चार और keys होती हैं;  Page up ,Page down, Home और end इन Keys के द्वारा आप कर्सर को टेक्स्ट के पर तेजी से मूव करा सकते हैं Home और End Keys का प्रयोग कर्सर को क्रमशः टेक्स्ट के शुरू तथा अन्त में रखने के लिए ही khas तौर पर किया जाता है।101 Keys वाले मॉडल कीबोर्ड में कर्सर को मूव कराने वाली चारों ऐरो keys का एक अलग सेट होता है।

Special Purpose Keys➞


ये कीज़ कुछ विशेष कार्य के लिए प्रयोग की जाती है।

Back space key➞

यह कर्सर को एक स्थित पीछे ले जाती है।Back Space key उन कैरेक्टरों को ईरेज करती है जो कर्सर के ठीक बायीं ओर होते हैं।

Enter or Return key➞

जब आप टाइप राइटर पर टाइप करते हैं तो Return key को दबाते ही आप अगली लाइन में पहुँच जाते हैं।keyboard में Enter keys को Return key कहा जाता है और इसका प्रयोग लाइन या पैराग्राफ के End को बताने के लिए किया जाता है।इसका प्रयोग Computer को दी जाने वाली कंमाड को End करने के लिए भी होता है।जिससे Computer उस कंमाँड या निर्देश को एक्जिक्यूट कर सके।

Escape key➞

ESC key जो Escape का संछिप्त रूप है, का प्रयोग Computer को यह निर्देश देने के लिए होता है कि अभी दिये गए कमांड को तुरंत कैंसल कर दिया जाये।

Shift key➞

जब भी आप Shift key दबाते हैं और एक लोअर केस 'a' टाइप करते हैं तो यह अपर केस A में बदल जाता है।ऐसा टाइप राइटर मे भी होता है, और यह हमें screen पर दिखाई देता है।लेकिन यदि Caps Lock key ऑन हो तो यह प्रक्रिया उलटी हो जाती है।जँहा एक ही key द्वारा दो चिन्ह या कैरेक्टर टाइप किये जाते हों वँहा Shift key को दबा कर रखने पर key के ऊपर बना चिन्ह या कैरेक्टर दिखाई देगा।


Also read-Hard Disk क्या है यह कितने प्रकार की होती है। और यह कैसे काम करती है।

Caps Lock➞

यह एक toggle key होती है।जब आप इसे पहली बार दबाते हैं तो सारे अच्छर कैपिटल में टाइप होंगे अर्थात टाइप किये गए वर्ण बड़े टाइप होंगे।यदि आप Caps Lock key को दोबारा दबाते हैं तो इसका प्रभाव समाप्त हो जायेगा तथा सारे अच्छर छोटे यानी स्माल केस में टाइप होंगे।यदि आप ऐसा टेक्स्ट लिखना चाहते हैं, जो अपर केस में ही दिखे तो आप Caps Lock key को दबाते हैं।

Tab key➞

Tab key को दबाकर आप कर्सर को पूर्व निर्धारित 5 स्पेस या इससे अधिक भी बढ़ा सकते हैं।Tab key टेक्स्ट को टेबल के रूप में टाइप करने में मदत करती हैं।

Insert key➞

Insert का संछिप्त रूप है।Ins key इन्सर्ट और ओवर स्ट्राइक मोड दोनों में कार्य करती है।जब आप इन्सर्ट key को पहली बार दबाते हैं और एक अच्छर या कैरेक्टर को key-board में से टाइप करते हैं, तो नया टाइप हुआ टेक्स्ट पहले से लिखे हुए टेक्स्ट को दायीं और आगे बढ़ाता है।इसे इन्सर्ट टेक्स्ट mode कहते हैं। यदि आप Insert key को दोबारा दबायेगे और कुछ भी टाइप करेंगे तो नया टाइप हुआ text,पहले से टाइप किये गए टेक्स्ट के ऊपर लिखा जाएगा या उस टेक्स्ट को इरेज कर देगा। यह ओवर स्ट्राइक मोड कहलाता है।


Also read-Computer वायरस क्या है और इसके आने से हमारे System पर क्या प्रभाव पड़ता है।

Delete key➞

Del key को दबाकर आप कर्सर के ठीक ऊपर के कैरेक्टर को मिटा सकते हैं। कैरेक्टर को डिलीट करने के लिए कैरेक्टर के पास कर्सर ले जाकर Del key को दबाते हैं। Del key का कार्य Back space key से अलग होता है। Back Space key कर्सर के बाईं ओर के कैरेक्टर को इरेज करता है।जबकी Del key कर्सर के ऊपर के कैरेक्टर को इरेज करती है।

Print screen key➞

यदि आप Prt Sc key और Shift key दोनों को एक साथ दबायेगे तो स्क्रीन पर दिखने वाला टेक्स्ट Computer से जुड़े प्रिंटर पर प्रिंट हो जायेगा।


Types of Keyboard➡


वैसे तो आज कल कई तरह के Keyboard आ गए हैं मार्केट में लेकिन आज हम आपको जो Types बताने जा रहे हैं वो Regionऔर language के आधार पर बनाये गए हैं। जो की महत्वपूर्ण भी है। 
अगर Region की बात करें तो इसके आधार पर Keyboard तीन तरह के होते हैं। Qwerty , Azerty , Dovark इनके ये नाम इनके starting के Alphabed के आधार पर रखें गए हैं।


1.QWERTY Keyboard➞


आज के इस समय में इस प्रकार के कीबोर्ड Layout का प्रयोग बहुत ज्यादा किया जाता है। यह layout कीबोर्ड के second row में six कैरेक्टर के रूप में दिखाई देते हैं।इस प्रकार के कीबोर्ड लेआउट का प्रयोग Multipurpuse कार्य करने के लिए किया जाता है। यह एक साधारण कीबोर्ड लेआउट है जिसका प्रयोग कोई भी व्यक्ति बहुत ही सरलता से कर सकता है। 


2.AZERTY keyboard➞


इस प्रकार के कीबोर्ड लेआउट का जन्म France में हुआ था ये लेआउट Qwerty layout से ज्यादा अपडेट और इसकी तुलना में अच्छे हैं।


3.DOVARK keyboard➞


इस प्रकार के keyboard layout का प्रयोग ज्यादा तर विदेशों में किया जाता है।इस प्रकार के कीबोर्ड को बनाने का कारण उंगली के मूवमेंट को कम करना है। ये कीबोर्ड Azerty और Dovark से ज्यादा अपग्रेड हैं। और एडवांस भी, इन्हें ज्यादातर नयी टेक्नोलॉजी या साइंटिफिक रिसर्च में प्रयोग किया जाता है। कन्योकी इसकी टाइपिंग स्पीड बहुत ही फ़ास्ट होती है।


MS office और अन्य सॉफ्टवेर में उपयोग की जाने वाली Short cut keys➡


Keyboard full detail in Hindi



Function Key's के कुछ प्रमुख कार्य➞


F1-Help के लिए।
F2-रीनेम करने के लिए।
F3-Search कंमाँड ओपन करने के लिए।
F4-Alt+F4 दबाने पर आप जिस भी window पर काम कर रहे हैं। बंद हो जायेगी।
F12-कोई भी File को Save as करने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।


Computer keyboard की Shortcut keys➟


Window+D- इससे सारी window एक साथ मिनीमाइज हो जाती हैं।

Window+R- Run कंमाड खुल जाती है।
Shift+Del- कोई भी फाइल परमानेंटली Delete की जा सकती है।
Ctrl+Shift+Space- Taskbar सीधा खोला जा सकता है।
Alt+Tab- इससे आप एक window से दूसरी window पर जा सकते हैं।
Shift+Tab-जिस तरह Tab दबाकर आगे बढ़ा जा सकता है उसी तरह Shift+Tab दबाने पर पीछे जा सकते हैं।
Ctrl+Alt+Del- 
इससे बहुत से काम किये जा सकते हैं जैसे Restart,Log ऑफ़ , Shut down , और sleep आदि। इस कंमोंड का उपयोग Computer हैक होने की स्थित में किया जाता है।
Alt+Space- मिनीमाइज , मैक्सीमाईज , Restore, Close आदि कार्य किया जाता है।
Shift+      Content select करने के लिए किया जाता है।
Window+L- Computer को लॉक करने के लिए किया जाता है।
Window+E- My Computer exproler Open करने के लिए किया जाता है।



क्यों Alphabedic keyboard नहीबनाये जाते➙

हम जब भी कुछ टाइप करते हैं तो हमें टाइप करने के लिए मुख्यतः तीन तरह के कीबोर्ड प्रोवाइड किये जाते हैं। Qwerty, Azerty, Dovark जिसमें हम Qwerty का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। लेकिन आपने कभी सोचा है कि हमें Alphabedic क्रम में क्यों कीबोर्ड नही दिए जाते जिससे हमें टाइप करने में और आसानी हो। आइये जानते हैं।

                           

आप ने टाइप राइटर का नाम तो जरूर सुना होगा जिसका प्रयोग पहले के ज़माने में टाइपिंग में होता था। ये टाइप राइटर पुरे मेकेनिकल बेस्ड होते थे। मतलब इनमे गियर्स का इस्तेमाल किया गया था।जब भी हम किसी अच्छर के बटन को दबाते थे तो गियर की मदत से वह सामने लगे कागज पर छप जाता था। ये पहले Alphabedic क्रम में ही थे।लेकिन इनमें इसी की वजह से एक समस्या आयी जब भी हम दो अच्छरों को साथ में दबाते थे जो की पास- पास में थे। जैसे की NO तो वे अच्छर आगे जाकर टाइप राइटर को जाम कर देते थे।जिसके बाद उसे खोलकर फिर से रीस्टार्ट करना पड़ता था।
इसी को देखते हुए इन अच्छरों को दूर- दूर किया गया और QWERTY keyboard बना।
 चूँकि सभी लोग अब टाइप राइटर में Qwerty keyboard ही इस्तेमाल करते आ रहे थे।इसीलिये इसमे बिना बदलाव किये आज के कीबोर्ड बनाये गए जिनका हम इस्तेमाल करते हैं।