Sdh technology in Hindi/SDH Technology क्या है?

Hello दोस्तों, आज हम आपको Sdh technology in Hindi के बारे में बताने वाले हैं। साथ ही साथ आपको Sdh frame Structure , What is difference between SDH and PDH , के बारे में संपूर्ण जानकारी देंगे।


          ⇐SDH technology in Hindi⇒

SDH का Full form Synchronous Digital Hierachy है। यह Synchronous deta ट्रांसमिशन के लिए एक मानक तकनीक है। यह Sonet( Synchronous optical network) का ही एक Modify रूप है। ये दोनों Sdh technology और Sonet technology , PDH उपकरणों की तुलना में अधिक तेज और कम खर्चीले Network interconnection प्रदान करती हैं।


SDH निम्नलिखित STM (Synchronous transport module) दरों का उपयोग करता है। जैसे- STM-1 (155 Mbps) , STM-4 (622 Mbps) STM-16(2.5 Gbps) , STM-64 (10 Gbps)

Popular post-How to download free movies in 2020 By Hotstar


What is SDH Frame Structure➞

SDH की Frame को STM ( Synchronous transport module) कहते हैं। SDH के निम्नलिखित Frame होते हैं।1. STM-1 (155-Mbps)2.STM-4 (622-Mbps)3.STM-16 (2.5-Gbps)4.STM-64 (10-Gbps)                         

       
SDH technology kya hai? SDH in Hindi


अभी हम शिर्फ STM-1 Frame की बात करेंगे। जो की इसका Basic Frame होता है।

STM-1 ये ITU-T की recommendation है।इस Frame के कुछ charectaristics हैं।-जैसा की आप image में देख सकते हैं। Yellow colour वाला एरिया Container area कहलाता है। इसके अंदर Payload होता है। Green और Red वाला area Overhead हैं। Overhead वाला एरिया Payload को cantroal करता है।इस Frame के अंदर 270 Coloms यानी की Vertical lines और 1 से 9 तक Rows यानी कि Horizontal lines होती हैं।1 से 9 Coloms के एरिया को Section Overhead कहते हैं। और 10 वाँ Colom Path Overhead कहलाता है। इसके बाद के 11 से 270 Coloms के area को Contenar area या Peload area कहा जाता है।इस पुरे Frame का Time 125 Micro second होता है। यानी की एक Frame Transfer होने में 125 Microsecond लेता है।


⇐Diffrence between SDH and PDH ⇒

SDH और PDH में क्या Diffrence है।  क्यों PDH को समाप्त करके SDH को लाया गया। तो इसमें सबसे बड़ा Diffrence था। वो ये था कि PDH (Plesichronous Digital Hierarchy ) था और SDH, Synchronous digital Hierachy था। Synchronous और Plesynchronous में जो Basicaly diffrence होता है वो ये होता है कि Synchronous वो System होता है जिसके all Element  all system , Central clock के साथ Synchronized होते हैं। जबकी Plesynchronous वो System होता है। जिसमे सभी System की Clock Diffrent होती है।



Conclusion➣

दोस्तों आज आपने Sdh technology in Hindi के बारे में और Sdh technology के Frame structure और Sdh और PDH में क्या अंतर है। के बारे में अच्छी जानकारी प्राप्त कर ली है। मुझे उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको पसंद आयी होगी।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां