Share and Share market in Hindi


Share and share market in hindi

Share and share market in Hindi.

Share market से रूपये कमाना चाहते हैं।रूपये कमाने के चाहत सबकी होती है, क्योंंकि सभी जानते हैं कि बिना रूपयों के इस विश्व में उसका कल्याण नही होने वाला है, और शायद इसी कारणवश सब लोग अपने घर से कुछ हासिल करने के लिए कुछ पाने के लिए निकलतें है, कोई  दफ्तर जाता है, तो किसी का खुद का छोटा या बड़ा व्यवसाय होता हैं। तो कुछ लोग खेती करतें है,तथा कुछ लोग घर मे बैठकर, तो कुछ लोग खुद की कमाई को दाँव पर लगाकर पैसे कमाने की कोशिश करते हैं, तो इसी आधार पर हम आज  आपको एक ऐसे जगह के बारे में बतायेंगे जोकि रुपये खासकर ज्यादा रुपये कमाने का एक बेहतरीन और एकदम genuine तरीका है, जहाँ पर लाखों लोग सबकुछ छोड़़कर सिर्फ इसी माध्यम से करोड़ों रुपए कमा लेते है,वह भी सिर्फ दिमाग लगाकर , और वह तरीका है, शेयर बाजार में पैसे लगाकर,तो आईए फटाफट से जानते हैं, कि शेयर बाजार  क्या है और कैसे निवेश करें।


What is Share and Share market in Hindi➙



What is Share market. शेयर बाजार  क्या है?➞

शेयर बाजार एक ऐसी संस्था है।, जंहा पर कंपनियों की Financial securities का आदान-प्रदान होता है, ये Financial securities शेयर, ब्रांड, Debenture, primary bill आदि होते हैं, जिनमे किसी कंपनी की समस्त वित्त व्यवस्था सिंचित होती है।

जिनको कंपनियों के द्वारा issue किया जाता है। तथा कंपनी के इन शेयर, बांड, आदि को कोई भी खरीदता है,जैसे आम नागरिक हमलोग, या फिर कोई billionaire,या फिर कोई दूसरी कंपनी भी किसी दूसरी कंपनी के शेयर आदि में हिस्सेदारी खरीद लेती है।गौरतलब है कि शेयर आदि issue करने के लिए कंपनियों को registered  करना होता है, ठीक उसी प्रकार से कंपनी के शेयर आदि की खरीद-फरोख्त के लिए भी registered होना होता है। यह सब एक विधिक,एवं कानूनी आधार पर होता है, और जिस संस्था को यह सब अधिकार प्राप्त होते हैं, उसे ही हम शेयर बाजार कहते हैं । इसके साथ ही यहाँ पर किसी भी को किसी fraud आदि से बचाने के लिए एक खास संस्था SEBI (Securities and exchange board of India).का निर्माण किया गया है, जोकि किसी भी होल्डर को उसके कानूनी अधिकार मुहैया कराती है।                                    

इसे पढें:-Bull and Bear in stock market. शेयर बाजार में तेजडिया और मंदडिया क्या है?              

कंपनियां अपनी financial security शेयर बाजार में ही  क्यो issue करती हैं।➙

जी हाँ जैसा कि हम जानते है कि कोई भी कंपनी  share market मे registered करके share,debenture,bonds, आदि issue करती है, तो यहां पर सवाल उठता है कि आखिर कंपनी ऐसा  क्यों करती है, तो आपको बता दें कि कंपनी ज्यादा से ज्यादा अपनी financial statements को आगे बढ़ाने का प्रयास करती है, और इसके लिए शेयर बाजार से अच्छा विकल्प दूसरा मौजूद नही होता है। इसके साथ ही अगर उसके शेयर आदि, मार्केट में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं तो कंपनी को अपना ब्रांड प्रमोशन करने का सुनहरा अवसर प्राप्त होता है। इसके साथ ही शेयर बाजार में कानूनी संरक्षण मिल जाता है।

How many type of Share market in India➙

वैसे तो भारत में दो प्रकार की शेयर मार्केट है। जोकि कंपनियों तथा होल्डरों के बीच समन्वय स्थापित करती है, जिससे financial trading करने मे आसानी होती है।

क . National stock exchange (NSE).

यह राष्ट्रीय स्तर की trading शाखा है,जोकि सरकार के द्वारा हैंडल होती है। भारत के कई बड़ें महानगरों में इसकी शाखाएं है। जैसे मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरु, चेन्नई, कोलकाता, हैदराबाद आदि।

ख . Bombay stock exchange (BSE).

बाम्बे स्टॉक ऐक्सचेंज भारत की सबसे बड़ी financial share market है,जोकि मुंबई के Dalal street नामक स्थान पर मौजूद हैं। और यह माना जाता है कि NSE से ज्यादा फायदेमंद BSE साबित होती है, और यही कारण है कि  क्या आम और खास सभी इस पर दांव लगाते है।

How to invest in Share Market.

देखिए लगभग सभी लोग धन कमाने के बाद धन का संग्रहण करने की सोचते हैं, और उस जगह को ज्यादा महत्व देते हैं,अपने धन के लिए जहाँ पर उनका धन बढ़ सके और सुरक्षित रहें,और यही कारण है कि भारत में लोग Banking प्रणाली के जरिए अपने धन को सुरक्षित रखने और बढ़ाने का प्रयास करते हैं, पर हमारा अर्थशास्त्र तो यहीं कहता है कि वर्तमान में माँग और महँगाई की जो situation create हो रही है, वह देखकर भी बैंकिंग प्रणाली के ऊपर ही निर्भर रहना बेहद मूर्खतापूर्ण है। ऐसे मे बुद्विमता और जागरूकता के साथ धन को विस्तृत क्षेत्र में ले जाना चाहिए, और ऐसे क्षेत्र में धन कमाने का जरिया शेयर बाजार में निवेश करने से उपयुक्त दूसरा नहीं है। अब बात करते हैं कि शेयर बाजार में Invest कैसे करें, आपको सबसे पहले अपना एक Demat(Dematerialization) accountखोलना पड़ेगा, जिसके लिये आपके पास बैंक खाता और एक वैध पैन कार्ड होना चाहिए, इसके साथ ही आप direct bank के जरिए भी निवेश कर सकते हैं, आखिर जब पहले इंटरनेट नही था, तब बैंक ही तो कंपनियों का issue bill पहुँचाता था, लोगों के पास। अब जब आपका अकाउंट बन जायेगा तो आप जिस भी कंपनी में invest करना चाहते हैं, उसके व्यवसाय और वित्तीय स्थिति को जाँच ले,और इसमे आपकी सबसे ज्यादा मदद उस कंपनी का वित्तीय लेखा जोकि 31march की closing date पर कंपनी के द्वारा अपना वार्षिक रिपोर्ट Balance sheet और P/L account के जरिये बताती है, मिल जायेगी,इसके साथ ही कंपनी के fluctuation rate और प्रत्येक शेयर की value ( अगर शेयर के लिए ही निवेश करने के इच्छुक हैं तो) समीक्षा कर लें जिससे आपको उसके बारे में जानने का मौका मिल जायेगा। अब आप पूरी तरह से तैयार हो गए हैं, और यह सब जानने के बाद आप जितने शेयर खरीदने के इच्छुक हैं, खरीदें उनको संयमित करें और देखे जब शेयर की value market में बढ़े तो उसको बेंचकर मुनाफा कमाए।

जिस कंपनी के shareholder हैं उसमें मतदान अवश्य करें। 

प्रायः देखा जाता है कि कंपनी के छोटे हिस्सेदार (Share holders) Board of directors के चुनाव के दौरान मतदान नही देते हैं। कन्योकी वह समझते हैं कि उनके एक मत से क्या फर्क पड़ता है।लेकिन नही फर्क पड़ता है।जब आप किसी Director को सीईओ बनाने की सोचते हैं। तो हो सकता है कि वही एक वोट आपके काम आ जाये इसलिए वोटिंग अवश्य करें।

        ⇐What is  Share  शेयर क्या है?⇒

1.What is Securities➞

सबसे पहले आपको यह जानना होगा कि securities  क्या  है, तो दोस्तों Securities एक प्रकार का साधन होता है, जिसको कंपनियों के द्वारा issue किया जाता है ,यह दो प्रकार की होती हैं।  

A . Debt securities

यह एक प्रकार का ऋण होता है, जोकि कंपनी खुद के लिए issue करती है, इस आधार पर कंपनी ऋणी होतीं है,और ऋण देने वाला ऋणदाता कहलाता है, इसमें सबसे खास बात है कि ऋणदाता कंपनी के हिस्से का मालिक तो नही होता पर हाँ, कंपनी अगर डूब भी चुकी हो तब भी ऋणदाता को उसको पैसा मिल जाता है।                                                  

Debt securities के अंतर्गत Debentures,Bonds,FD आदि आते है।

B.Equity securities.

Equity securities ऐसी होती है, प्रत्येक व्यक्ति जोकि कंपनी के कुछ शेयर security के आधार पर अपने पास रखता है, कंपनी के कुछ हिस्से का मालिक होता है, तथा कंपनी के नफे - नुकसान मे बराबर का जिम्मेदार होता है। equity securities का सबसे महत्वपूर्ण उदाहरण शेयर होता है।

2.What is Share➞

शेयर कंपनी की वित्तीय संरचना का सबसे छोटा हिस्सा होता है, जोकि कंपनी के द्वारा निर्धारित की गई issue money को छोटे- छोटे हिस्से में बाँट देता है।उदाहरण के तौर पर किसी कंपनी के द्वारा 1,00,000 रूपये के शेयर issue किए गए और प्रत्येक शेयर की कीमत 500 रूपये है तो, 1,00,000/500= 200 shares हो जाते है।
अब अगर suppose करें यह 200 शेयर कोई भी व्यक्ति खरीद लेता है तो वह कंपनी के 1,00,000 ₹ या फिर 200 shares का मालिक हो जायेगा।   
और Bull trading के वक्त जब शेयर में उछाल आयेगा तो वह बेंच सकता है और मुनाफा कमा सकता है।                                                     
उदाहरण के तौर पर वही 200₹@ each share अब bull trading के वक्त 220₹@each हो गया है तो इसका मतलब उसकी 1,00,000 की पूंजी की वैल्यू 1,20,000 हो गयी हैं तो वह ऐसी स्थिति में अपने शेयर बेंच सकता है और 20,000 का मुनाफा कमा सकता है।

3.How many types of Shares➞

शेयर के दो प्रकार होते है, equity and preferential.

1.Equity Shares➝

इन शेयरों पर लांभाश मिलने की कोई गारंटी नहीं होती है, लेकिन फिर भी कुछ इच्छुक लोग जोकि ज्यादा जोखिम उठाकर ज्यादा पैसे कमाने का तरीका ढूंढते हैं, उनके लिए यह equity shares सबसे उपयुक्त है।  हालांकि इसका एक लाभ होता है, कि ऐसे शेयर holders उस कंपनी के मालिक का अधिकार प्राप्त करतें हैं।

2.prefrential shares➝

ये ऐसे शेयर होतें है, जिनपर लाभांश की दर प्राप्त होती, है तथा इनको इनका पैसा समय के साथ मिलता है। और किन्ही कारणों से अगर कंपनी बंद हो जाती है, तो इनका पैसा equity shareholders से पहले मिल जाता है। हालांकि इन्हें मतदान का अधिकार नही प्राप्त होता है।                           

3.Dividend क्या होता है? 

शेयर पर मिलने वाले लाभांश को ही Dividend कहा जाता है, तथा इसे कंंपनी के द्वारा profit होने पर सारे expenses को निकालने के बाद ही कंंपनी के मालिक के बीच में बँट दिया जाता है।

5. शेयर में invest करना ही उपयुक्त  क्यों समझा जाता है ?➔

क. महँगाई दर को शेयर से मिलने वाला लाभ पीछे छोड़ता है।                  

ख. शेयर पर लगने वाली कर की दरें अन्य निवेश से आसान है।

आसानी से खरीद फरोख्त हो सकती है।                                       

Conclusion➣

निष्कर्ष के रूप में आज आप लोगों ने शेयर और शेयर बाजार क्या है, और शेयर की बारीकियां सीखी , कमेंट करके बताये और आप क्या जानना चाहते हैं। उम्मीद करता हूँ आप लोग शेयर बाजार में अगर निवेश करने जा रहें होंगे, तो आप अपनी बुद्धि और विवेक से लाभ हासिल करेंगें।                                                   

इसे पढें:-What is Debenture in Hindi पूरी जानकारी हिंदी में।



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां